जंगल सफारी के तर्ज म मोहरेंगा म बनत हे नेचर सफारी


जंगल सफारी के तर्ज म मोहरेंगा म बनत हे नेचर सफारी
  17/07/2020  


केशव पाल तिल्दा-नेवरा। तिल्दा विकासखंड के अंतर्गत अवइया ग्राम मोहरेंगा स्थित प्राकृतिक जंगल ल ये दिनों नेचर सफारी बनाय बर वन विभाग द्वारा जंगल सफारी के तर्ज म विकसित करे जावत हे। 1450 एकड़ म फैले ये जंगल ल नेचर सफारी के रूप म विकसित कर 1 नवंबर ले पर्यटक मन बर शुरू करे के तैयारी घलो चलत हे। विदित हे कि मोहरेंगा घना प्राकृतिक जंगल होय के कारण 2011 म वन विभाग ह योजना तैयार करे के बाद 2015 म येला पर्यटन स्थल के रूप म विकसित करे बर घेराबंदी करे के शुरू करे रहिस। राज्य सरकार ले तकनीकी अउ प्रशासकीय स्वीकृति मिले के बाद येकर काम चालू होगे हे अउ पाछू एक बछर ले येला पर्यटन स्थल के रूप म विकसित कर अत्याधुनिक स्वरूप देय बर विभागीय अमला जुटे हुए हे।

●वन्य प्राणी मन के निवास●
 
मोहरेंगा प्राकृतिक जंगल होय के कारण इंहा हिरण,चीतल,सांभर,जंगली सुअर,लोमड़ी,खरगोश, नेवला के संगे-संग अउ कई ठन छोटे वन्य प्राणी मन निवास करथे। भारी संख्या म इंहा फलदार,औषधीय पौधा अउ हरा घास होय के कारण वन्य जीव मन विचरण करत रहिथे।

●प्रकृति के आनंद●

इंहा तालाब के बीच म गार्डन घलो विकसित करे जात हे। अउ जिहां एक झरना घलो बनाय जाही। त उंहे टावर के निर्माण घलो करे जात हे जेमा चढ़के पर्यटक मन जंगल ल देख सकय। इंहा तितली पार्क घलो विकसित करे जात हे। त उंहे पर्यटक मन के मनोरंजन बर झूला घलो लगाय जावत हे।

●शोरगुल ले दूर शांत वातावरण●

रायपुर ले 40 किलोमीटर दूर तिल्दा-खरोरा मार्ग म स्थित लगभग साढ़े 14 सौ एकड़ म फैले ये नेचर सफारी ह शोरगुल के दूर शांत वातावरण म स्थित हवय। जिहां पर्यटक मन आके प्रकृति ल करीब ले महसूस करत वोकर आनंद ले सकत हे। उंहे सुरक्षा के लिहाज ले घलो इंहा तार घेरा ले जंगल ल घेरे गये हे।


अऊ खबर

img not found

06/09/2020 अपराध

img not found

05/12/2019 this is test news22

img not found

21/11/2019 धान

Top