गोधन योजना ह संवारही पशुपालक म के जिनगी, 5 अगस्त ले सीधा खाता म आही 1 करोड़ के राशि


गोधन योजना ह संवारही पशुपालक म के जिनगी, 5 अगस्त ले सीधा खाता म आही 1 करोड़ के राशि
  04/08/2020  


रायपुर. छत्तीसगढ़ सरकार के महत्वाकांक्षी अऊ देश भर म चर्चा म रहे योजना गोधन न्याय योजना के तहत पहली बार गोबर बेचे वाला पशुपालक के खाता म अवईय़ा 5 अगस्त के गोबर बिक्री के राशि के पहली किस्त अदा कर जाही । बताए जात हे कि राज्यभर के करीब 60 हजार पशुपालक के खाता म 1 करोड़ 60 लाख रुपए अदा करे जाही । ए राशि 1 अगस्त तक गोबर बेचे वाला के हिस्सा के हरे । खरीदे गए गोबर से जैविक खातू बनाए जाही, जेला सरकार ह 8 रुपिया किलो के हिसाब से बेचही । 5 अगस्त से गोबर बिक्री के राशि पशुपालक के खाता म डाले के तैयारी लगभग पूरा हो गए हे । ए राशि पशुपालक तक पंहुचाए बर राज्य के सहकारी बैंकों के अफसर-कर्मी मन छुट्टी के दिन शनिवार, रविवार अऊ सोमवार के घलोक काम करीस । छत्तीसगढ़ देश के पहला अईसन राज्य हे, जेन पशुपालक ले दू रुपिया किलो गोबर खरीदे के न केवल योजना बनाईस ओला जमीनी स्तर म सुचारु रुप से चला के भी दिखाईस ।

 हर 15 दिन म होही भुगतान 

राज्य म 20 जुलाई से गोबर खरीदी शुरू करे जाए के बाद पहला भुगातान भुगतान 5 अगस्त के करे जाही । एकर बाद अब हर 15 दिन म भुगतान करे के योजना हे। ए हिसाब से अगला भुगतान 15 अगस्त के करे जाही। राज्य शासन ह गोधन न्याय योजना के क्रियान्वयन बर कंप्यूटरीकृत प्रबंधन प्रणाली संबंधी दिशा-निर्देश जारी करे हे, जेकर अनुसार गोबर के खरीदी अऊ वर्मी कंपोस्ट के बिक्री के संपूर्ण विवरण ऑनलाईन पोर्टल के माध्यम से संधारण करे जाही। 

रायपुर,दुर्ग अऊ बस्तर म अधिक बिक्री  

राजधानी रायपुर, दुर्ग, बस्तर के सुकमा अऊ बीजापुर के पशुपालक मन प्रदेश म सबसे अधिक गोबर बेचिन । लिहाजा ए जिला म गोबर बिक्री के पहली किस्त के राशि अदा करे जाही। पशुपालक मन अपन गोबर अपने इलाका के  गोठान म बेचिन। गोठान कति ले सहकारी बैंक के गोठान खाता म एकमुश्त राशि जमा करा देहे गए हे। प्रदेश के सहकारी बैंक के माध्यम से पशुपालक के खाता मन म ऑनलाईन माध्यम से राशि ट्रांसफर करे जाही।


अऊ खबर

img not found

06/09/2020 अपराध

img not found

21/11/2019 धान

Top